Yojana Pedia

Sarkari Yojana, State Government Schemes

Rajasthan Jal Swavalamban Yojana राजस्थान राज्य मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान Application Form

राज्‍य सरकार की योजनाएं -  

Rajasthan Jal Swavalamban Yojana राजस्थान राज्य मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान Application Form:

ग्रीष्म ऋतु में पर्याप्त जल के के अभाव में तथा मानसून-ऋतु (वर्षा की एक बूँद) की प्रत्येक बूँद का संग्रहण करने के उद्देश्य से प्रेरित हो राजस्थान राज्य भारतीय जनता जनता पार्टी की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया द्वारा २७ जनवरी २०१६ में सुनियोजित व पद्धतिबद्ध प्रकार से अतिमहत्वाकांक्षित ‘मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान’ प्रारंभ किया गया एक सफलतम प्रयास माना गया है and मानसून-ऋतु के जल की प्रत्येक (एक-एक) बूंद का संग्रहण कर ग्राम-ग्राम में पेयजल आपूर्ति और जल भंडारण के लक्ष्य को सफलतापूर्वक पूरा किए जाने हेतु प्रत्येक ग्रामवासी को जल का महत्व समझा सरकार तथा जन भागेदारी से जल आत्मनिर्भरता की ओर प्रेरित करना तथा कृषि में जल के अभाव को समाप्त करना इस अभियान का मूल उद्देश्य है।

Rajasthan Jal Swavalamban Yojana

चरणबद्ध प्रकार से राजस्थान राज्य के घर-घर में पहुंचे हुए मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान (Mukhyamantri Jal Swavlamban Abhiyan) को भारतवर्ष का अतिसफल कार्यक्रम माना जाता है | राजस्थान निवासियों द्वारा व्यक्तिगत नैतिक रूप से उत्तरदायी निवासी द्वारा सुव्यवस्थित तथा प्रभावी रूप में अपनाये गए इस अतिसफल कार्यक्रम के परिणामस्वरूप ‘मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान’ भारत देश के समस्त राज्यों के लिए एक ज्वलंत उदाहरण बन चुका है !

‘मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान’ का सर्वप्रथम लक्ष्य राजस्थान राज्य के प्रत्येक ग्राम व गृह में वर्षा का जल व्यर्थ बहकर बाहर जाने के स्थान में जनपद-वार ग्राम में राज्य के निवासियों, मवेशियों (पशुओं) और कृषि के प्रयोग में आए |

Rajasthan Jal Swavalamban Yojana (मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान) का प्रारंभिक लक्ष्य:

उपलब्ध सूचना के आधार पर मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान दो चरणों में प्रारंभ किया गया था and जिसमें प्रथम चरण २७ जनवरी २०१६ से जून २०१६ तक चलाया गया, जिसमें राजस्थान प्रदेश की २९५ पंचायत समितियों के ०३ हज़ार ५२९ गांवों का चयन किया गया !

इस अभियान के अन्तर्गत चयनित गांवों में पारंपरिक जल-संरक्षण के तरीकों जैसे तालाब, कुण्ड, बावड़ियों, टांके इत्यादि का मरम्मत कार्य एवं नई तकनीक से एनिकट, टांके, मेड़बंदी आदि का निर्माण किया गया था ! इन जल संरचनाओं के निकट २६.५० लाख से अधिक वृक्षारोपण (पौधारोपण) भी किया गया था ! इन पौधों का अगले ०५ सालों तक किया जाने वाला संरक्षण भी इस अभियान में शामिल है! इसमें भू-संरक्षण, पंचायती राज, मनरेगा, कृषि, उद्यान, वन, जलदाय, जल संसाधन एवं भूजल ग्रहण आदि ०९ सरकारी विभागों, सामाजिक-धार्मिक समूहों एवं आमजन की भागीदारी सुनिश्चित की गई है !

इस अभियान के तहत आगामी वर्षों में राज्य के अधिकतर गांवों को लाभान्वित कर उन्हें जल-आत्मनिर्भर बनाया गया है:

  • वर्षा-ऋतु के जल को व्यर्थ बहने से रोकने के लाभ
  • जल संग्रहण के कारण आवश्यक मात्रा में जलापूर्ति का वर्धन हुआ
  • सतही स्त्रोतों में पानी संग्रहण (भंडारण) हुआ
  • भूजल का स्तर बढ़ा
  • पानी के बहाव से मिट्टी की ऊपरी सतह के बहाव को रोका गया,
  • माटी (मिट्टी) की नमी मात्रा बढ़ी
  • कृषि (खेती) की पैदावार में बढ़ोतरी हुई

Rajasthan Jal Swavalamban Yojana (मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान) सफलता हेतु परिमाण (मापदण्ड):

मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान को अधिकतम सफलतम बनाने हेतु निम्नलिखित प्रयास किये जावें तो परिणाम और भी सुखद होंगे:

  • उन्नत प्रौद्योगिकी को प्रयोग में
  • जन जन को जल भंडारण का महत्व तथा उसके प्रयोग के विषय में अधिक से अधिक जागरूक किया जाए;
  • राज्य सरकार व ग्राम-ग्राम में जान भागेदारी को अधिक से अधिक दृढ़ एवं समेकित करना;
  • अधिक से अधिक वृक्षारोपण करना;
  • तालाब, कुण्ड का अधिक से अधिक निर्माण करना;
  • संभव हो सके तो अन्य नदियों में खारे जल को पुनःचक्रित करना (पुनरावृत्ति करना);
  • गैर सरकारी संस्थाओं तथा बहुदेशीय उद्योगों को प्रोत्साहित करना

मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान के विषय में अधिक से अधिक सूचना प्राप्त करने हेतु, राजस्थान प्रदेश के मुख्यमंत्री के कार्यालय से संपर्क कर सकते हैं |

Official Link : www.mjsa.water.rajasthan.gov.in/

सरकारी योजनाओ की जानकारी के लिए सब्सक्राइब करे।

All the Viewers all advised to give your opinions through using the comment box of Yojanapedia therefore we cen help everybody all central & state govt yojana which will help you to take benefits of sarkari yojanas.

राज्‍य सरकार की योजनाएं -  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *