Yojana Pedia

Sarkari Yojana, State Government Schemes

Stree Swabhiman Yojana Kya Hai ? Online Registration Last Date Apply In Hindi

Stree Swabhiman Yojana Kya Hai
राज्‍य सरकार की योजनाएं -  

Stree Swabhiman Yojana Kya Hai ? Online Registration Last Date Apply In Hindi :

स्त्री स्वाभिमान योजना (विमिन् सेल्फ-रिस्पेक्ट स्कीम): “स्त्री स्वाभिमान योजना” (विमिन् सेल्फ-रिस्पेक्ट स्कीम) (Women Self-Respect Scheme) का मुख्य प्रयोजन समाजोत्थान करने हेतु नारी को आत्मसम्मान जीवन प्रदान करने के लिए आजीविका अर्जन में आत्मनिर्भर बनाना है । “स्त्री स्वाभिमान” ब्रांड नाम के अंतर्गत विशेष रूप से ग्रामीण और भारत की आदिवासी महिलाओं के लिए किफायती मूल्य पर सैनिटरी नैपकिन का उत्पादन और प्रदान करने के लिए महिला स्वच्छता के क्षेत्र में भारत सरकार की सीएससी एसपीवी द्वारा की गयी पहल है। केंद्रीय सरकार के इलेक्ट्रॉनिक्स तथा सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय, कॉमन सर्विस सेंटर (सीएससी), ई-गवर्नेंस सर्विसेज इंडिया लिमिटेड द्वारा Stree Swabhiman Yojana Kya Hai का प्रबंधन किया जाता है ।

Stree Swabhiman Yojana Kya Hai स्त्री स्वाभिमान योजना का उद्देश्य

इस परियोजना में “मासिक धर्म स्वच्छता” से संबंधित जागरूकता सृजन घटक और स्कूलों में नैपकिन उपलब्ध कराकर विद्यालयों (स्कूल्ज) और महाविद्यालयों ( कॉलेजेस) में ग्रामीण लड़कियों के मध्य सेनिटरी नैपकिन के उपयोग को बढ़ाने का उद्देश्य है । यह परियोजना निरंतर चलेगी और ग्रामीण क्षेत्रों के विभिन्न मुद्दों के समाधान को सम्बोधित करने के लिए इस शुरू की गई है।

स्त्री स्वाभिमान इकाई स्थापन पात्रता:

स्त्री स्वाभिमान इकाई कोई वित्तीय सक्षम व्यवसायी स्थापना लागत का निवेश कर इस परियोजना को आरम्भ कर सकते हैं ।

दाता के लाभ: यदि कोई व्यवसायी स्त्री स्वाभिमान परियोजना के लिए योगदान देना चाहें, सो कर सकते हैं । जन सेवा केंद्र अकादमी (कॉमन सर्विस सेंटर एकैडेमी) ने इस हेतु आयकर विभाग (इन्कम टैक्स डिपार्टमेंट) से धारा 12 एए और 80 जी के तहत प्रमाण पत्र प्राप्त किया है।

किसी भी व्यक्ति {व्यक्तिगत / एचयूएफ / कंपनी / फर्म / एओपी / बीओआई / एलएलपी} द्वारा कोई दान / अंशदान, सकल कर योग्य आय {आयकर अधिनियम के प्रावधान के अनुसार} धारा 80 जी के तहत कटौती के लिए पात्र हैं।
दान बैंकिंग चैनल के माध्यम से ऑनलाइन स्वीकार किया जाता है
डोनर की पहचान अनिवार्य है
योगदान / दान नई दिल्ली में देय “सीएससी अकादमी” के पक्ष में चेक / डीडी / एनईएफटी / आरटीजीएस के माध्यम से दिया जा सकता है। इसके अलावा बैंक का विवरण लेनदेन संख्या के साथ [email protected] पर भेजे जा सकते हैं भेजा जाना चाहिए । केंद्र सरकार ने बड्जेट २०१९ में एनईएफटी / आरटीजीएस के द्वारा परेशान / विप्रेषित धन को निःशुल्क कर दिया है ।
ऑनलाइन रसीद सफल लेनदेन पर उत्पन्न होती है और आयकर अधिनियम की धारा 80 जी के तहत क्लेम के लिए उपयोग की जा सकती है।

Stree Swabhiman Yojana Kya Hai स्त्री स्वाभिमान योजना का अवलोकन:

कॉमन सर्विस सेंटर अथवा जन सेवा केंद्र (CSC) में 35000 से अधिक महिला उद्यमी हैं, जो विशेषकर ग्रामीण भारत में नागरिकों को विभिन्न G2C और B2C सेवाएँ प्रदान करती हैं । ये कॉमन सर्विस सेंटर्स अंकीय साक्षरता (डिजिटल लिटरेसी), वित्तीय समावेशन (फिनेंसियल इनक्लूजन), कौशल विकास (स्किल डेवेलपमेंट) आदि के रूप में विभिन्न सरकारी पहल के कार्यान्वयन में डिजिटल समावेश और सहायता प्रदान करते हैं। कॉमन सर्विस सेंटर्स ने स्व-संधारणीय रूप से ग्रामीण उद्यम को साबित किया है जो स्थानीय लोक-लुभावन कॉमन सर्विस सेंटर्स को आजीविका (रोजगार) प्रदान करते हैं । एक नई सामाजिक पहल “स्त्री-स्वाभिमान” में उद्यम जहां सेनिटरी नैपकिन विनिर्माण इकाइयों को महिला स्वास्थ्य और स्वच्छता को बढ़ावा देने के लिए स्थापित किया जा रहा है।

स्त्री-स्वाभिमान सेवा 08-10 अन्य महिलाओं को रोजगार प्रदान करेगी । जन सेवा केंद्र (कॉमन सर्विस सेंटर्स – सीएससी) अपनी महिला उद्यमियों को अपने केंद्रों पर न केवल सेनिटरी पैड प्रदान करने के लिए बल्कि अपनी सोसाइटी की महिलाओं को शिक्षित करने के लिए भी इस सामाजिक निषेध और स्वच्छता पैड के उपयोग को प्रोत्साहित करने में मदद कर रही है। यह हमारी इकाइयों में विनिर्माण जैवनिम्नीकरण (बायो-डिग्रेडेबल), पर्यावरण-अनुकूल (इको-फ्रेंडली) सेनिटरी पैड के लिए इकाई / खण्ड (यूनिट) प्रदान करेगा ।

Stree Swabhiman Yojana Kya Hai परियोजना के बारे में संक्षिप्त :

यह परियोजना महिलाओं और लड़कियों को मासिक धर्म स्वच्छता को बढ़ावा देने और ग्राम स्तरीय उद्यमियों और स्वयं सहायता समूहों (एसएचजी) को समर्थन देने के लिए प्रशिक्षण और सैनिटरी नैपकिन यूनिट स्थापित करने पर केंद्रित है ।

मध्यवर्तन अथवा मध्यवर्ती (इंटरवेंशन) 35000 महिलाओं के लिए चल रहे आजीविका विकल्प बनाने का प्रस्ताव करता है, जो अपने कॉमन सर्विस सेंटर में अपने उद्यमशीलता वेंचर्स का विकास करके विनिर्माण प्रक्रिया में शामिल होंगे ।
उत्पाद (सेनिटरी नैपकिन) को स्थानीय स्तर के उद्यमियों (वीएलई) द्वारा स्थानीय ब्रांड, नाम और विपणन के तहत बेचा जाएगा।
इस परियोजना में “मासिक धर्म स्वच्छता” से संबंधित जागरूकता सृजन घटक और स्कूलों में नैपकिन उपलब्ध कराकर विद्यालयों (स्कूल्ज) और महाविद्यालयों (कॉलेजेस) में ग्रामीण लड़कियों के मध्य सेनिटरी नैपकिन के उपयोग को बढ़ाने का उद्देश्य है ।

स्त्री-स्वाभिमान सेवा 08-10 अन्य महिलाओं को रोजगार प्रदान करेगी । जन सेवा केंद्र (कॉमन सर्विस सेंटर्स – सीएससी) अपनी महिला उद्यमियों को अपने केंद्रों पर न केवल सेनिटरी पैड प्रदान करने के लिए बल्कि अपनी सोसाइटी की महिलाओं को शिक्षित करने के लिए भी इस सामाजिक निषेध और स्वच्छता पैड के उपयोग को प्रोत्साहित करने में मदद कर रही है। यह हमारी इकाइयों में विनिर्माण जैवनिम्नीकरण (बायो-डिग्रेडेबल), पर्यावरण-अनुकूल (इको-फ्रेंडली) सेनिटरी पैड के लिए इकाई / खण्ड (यूनिट) प्रदान करेगा ।

Stree Swabhiman Yojana Kya Hai – Online Registration Last Date परियोजना का प्रारम्भ:

स्त्री स्वाभिमान परियोजना को ग्रामीण और अर्ध-शहरी महिलाओं के लिए स्व-विश्वसनीय बनने के लिए और एक स्वस्थ पर्यावरण-अनुकूल जीवन शैली (हेल्दी इको-फ्रेंडली लाइफस्टाइल) की दिशा में प्रगति करने के लिए संकल्पित किया गया है। सैनिटरी नैपकिन यूनिट्स के लिए मिनी मैन्युफैक्चरिंग यूनिट जैसी सीएससी की पहल कई विलेज लेवल ऑन्ट्रेप्रेन्योर्स (वीएलईस ) के बीच बहुत अच्छी तरह से प्राप्त हुई है।
हाइजीन और सैनिटेशन के मामले में कन्या छात्राओं (गर्ल स्टूडेंट्स) को बड़ी चुनौतियों का सामना करना पड़ता है । कई स्कूलों में शौचालय (लैट्रिन या टॉयलैट) की अपर्याप्त संख्या है, जो अक्सर खराब डिज़ाइन और बनाए रखी गई है । कन्याओं अथवा बालिकाओं के लिए, जो मासिक धर्म कर रहे हैं, ये समस्याएं कम्पाउंड डिस्टर्बेंसीज सेनिटरी टॉवेल्स के साथ-साथ मासिक धर्म के आसपास के सांस्कृतिक वर्जनाओं को वहन करने में असमर्थता के कारण उत्पन्न होती हैं। एक परिणाम के रूप में, कई लड़कियां औसतन चार दिनों के स्कूलों में हर महीने याद करती हैं, जो एक वर्ष में एक महीने से अधिक है, जिसका अर्थ है कि वे कक्षा में पीछे पड़ जाते हैं और कभी-कभी, यहां तक कि स्कूल से पूरी तरह से बाहर हो जाते हैं। यह पहले से मौजूद समस्याओं के लिए एक अतिरिक्त चुनौती है जो प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालयों में छात्राओं के उच्च ड्रॉप-आउट दर की ओर ले जाती है।

सीएससी एसपीवी ने देश के ग्रामीण क्षेत्रों में छात्राओं को सेनेटरी पैड प्रदान करने के लिए धन जुटाने का प्रस्ताव दिया है। ग्राम स्तर के उद्यमी अपने गांव में प्राथमिक और माध्यमिक स्कूलों में लगभग 1,000 लड़कियों को सेनेटरी नैपकिन पैड वितरित करेंगे, जिसमें 7 वीं से 12 वीं कक्षा तक की लड़कियों को स्त्री स्वाभिमान परियोजना के तहत शामिल किया जाएगा । ये महिला ग्राम स्तरीय उद्यमी प्राथमिक और माध्यमिक स्कूलों में महिला शिक्षकों और अन्य चिकित्सा कर्मचारियों के साथ संबंधित मुद्दों पर चर्चा करने के लिए लड़कियों को एक मंच प्रदान करने के लिए प्रशिक्षण और प्रश्न-उत्तर सत्र आयोजित आयोजित करता है ।

सीएससी एसपीवी मशीनों को प्रदान, स्थापित और परीक्षण करेगा और उनके ग्राम स्तर के उद्यमियों और उनके / उनके टीम के सदस्यों को प्रशिक्षित करेगा।

स्वच्छता नैपकिन विनिर्माण के लिए जन सेवा केंद्र (कॉमन सर्विस सेंटर) सुविधा की निम्नलिखित मुख्य विशेषताएं हैं:
यह एक आसान सेट-अप और मैनुअल प्रोसेस प्रोडक्शन लाइन है और इसकी मॉड्यूलर मैन्युफैक्चरिंग यूनिट को बनाए रखना आसान है।
विशिष्ट रूप से निर्मित अवसरंचना तथा सज्जा (कस्टमाइज्ड इन्फ्रास्ट्रक्चर एंड एम्युनिशन्स) जो संपूर्ण उत्पादन प्रक्रिया की समयबद्ध सम्पूर्णता सुनिश्चित करते हैं।
260 एमएम पंखों का उत्पादन निष्फल सेनेटरी नैपकिन और 1500 – 2000 नैपकिन एक दिन में किया जा सकता है
आजीविका (रोज़गार) सृजित करता है (07 – 10 प्रति विनिर्माण इकाई) और आजीविका विकास के अवसर प्रदान करता है । अप्रत्यक्ष रूप से स्व-निर्भर (स्व-आश्रित) समुदायों का निर्माण करता है ।
निम्न के रूप में विनिर्माण प्रक्रिया के 20% को बिजली की आवश्यकता होती है।

गाँव स्तर के उद्यमियों के लिए मॉडल उनके गांवों के लिए एक सामाजिक केंद्र:

सरकारी योजनाओ की जानकारी के लिए सब्सक्राइब करे।

ग्राम स्तर के उद्यमी अपने गाँव और कस्बे की स्कूली लड़कियों (किशोरियों) को सेनेटरी पैड मुफ्त प्रदान करेंगे।
बालिकाएं / लड़कियां अपने रिस्पॉन्सिबल विलेज के कॉमन सर्विस सेंटर्स से भी अवेल कर सकती हैं।
सीएससी अपने ग्राम स्तर के उद्यमियों को प्रति वर्ष ₹ 500/- प्रति वर्ष प्रदान करेगा। (दान की उपलब्धता के अधीन)
उसी का सत्यापन उस विद्यालय के प्रधानाचार्य द्वारा किया जाएगा।
विद्यालय के प्रधानाचार्य वितरण और लाभार्थियों की संख्या के बारे में लिखित पुष्टि प्रदान करेंगे।

Stree Swabhiman Yojana Kya Hai

स्त्री स्वाभिमान योजना हेतु ऑनलाइन पंजीकरण करने के लिए कॉमन सर्विस सेंटर वेबसाइट लॉग इन करे क्लिक करें ।

राज्‍य सरकार की योजनाएं -  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *