Yojana Pedia

Sarkari Yojana, State Government Schemes

UP Gauvansh Palan Yojana How To Take Benefits गोवंश पालन योजना

राज्‍य सरकार की योजनाएं -  

UP Gauvansh Palan Yojana How To Take Benefits गोवंश पालन योजना:

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ द्वारा “गोवंश पालन योजना” की घोषणा कर दी । मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ द्वारा गोवंश पालन की घोषणा को बृहद् अथवा सर्वसमावेशी गौवंश के पालन एवं संवर्द्धन के सन्दर्भ में देखा जा सकता है । गोवंश पालन (UP Gauvansh Palan Yojana) के सन्दर्भ में उत्तर प्रदेश तय किया है कि जो किसान गोशाला या गो-आश्रय स्थलों से निराश्रित गोवंश ले जाकर पालना चाहते हैं, उन्हें प्रति गोवंश पालन के लिए ₹ 900 प्रतिमाह दिए जाएंगे।

UP Gauvansh Palan Yojana

माना जा रहा है कि निराश्रित गोवंश का पालन सीधे कृषकों के द्वारा कराने हेतु उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सरकार ने गोवंश पालन योजना को प्रभावी एवं सुचारू बनाने हेतु समुच्चय तैयारी करते हुए अति महत्त्वपूर्ण घोषणा की है । गोवंश पालन का आशय है कि उत्तर प्रदेश में कृषकों को गोवंश पालन व संवर्द्धन के महत्त्व के संग इसे वृहत नियोजन के अवसर में देखा जाए । इसके लिए किसानों को जागरूक कर प्रोत्साहित किए जाने की योजना है। इस योजना के लिए बड्जेट की व्यवस्था के बाद विस्तृत दिशा-निर्देश जारी होने की संभावना है। इस योजना के लिए केंद्र सरकार से भी मदद प्राप्त करने पर विचार हो रहा है।

UP Gauvansh Palan Yojana गोवंश पालन उद्देश्य:

गोवंश पालन का प्रमुख उद्देश्य निराश्रित गौवंश के पालन एवं संवर्द्धन करते हुए उनका सदुपयोग करते हुए उनका संरक्षण करना । गोवंश पालन करने का आशय मादा तथा नर गोवंश से प्राप्त होने वाले भोज्य व प्रयोज्य पदार्थों को उपभोज्य मदों के रूप में निर्मित कर उसे आपण (विपणि) में अधिकतम हाट समूह में लाभजनक रूप में विक्रय हेतु प्रस्तुत करना ।

गोवंश पालन – लक्षित उद्देश्य:

उत्तर प्रदेश सरकार गोवंश पालन हेतु प्रोत्साहित करने हेतु इच्छुक किसानों को प्रति गोवंश ₹ 900 प्रतिमाह प्रदान करेगी । इसका फलप्रद तात्पर्य है कि एक गोवंश पालन के लिए उत्तर प्रदेश योगी आदित्यनाथ सरकार ₹ 900.00 प्रदान करेगी, जो भी कृषक बंधु एक से अधिक गोवंश पालन हेतु उत्तरदायित्व लेता है उसे प्रत्येक गोवंश के लिए अतिरिक्त समराशि अर्थात ₹ 900.00 की धनराशि सरकार की ओर से प्रदान की जावेगी । अतिमहत्त्वपूर्ण है कि कृषकों को गोवंश पालन के संग मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सरकार गोवंश पालन कर्त्तव्य के प्रति समर्पित कृषकों को गोवंश से प्राप्त प्रयोज्य, भोज्य एवं उपभोज्य वस्तुओं का विपणि में विक्रय करने के फलस्वरूप से अतिरिक्त आय प्राप्त करने के लिए जागरूक किया जाएगा।

गोवंश पालन के परिप्रेक्ष्य में स्मरण रहे प्रदेश में गोवंशों के स्वामियों द्वारा दिवसपर्यंत अपने गृहों से उदरपोषण के लिए मुक्त कर दिया जाता है। गोवंश के मुक्त किसे भी कृष्य भूमि में अंकुरित व विकसित फसलों को नष्ट कर देते थे। इसपर नियंत्रण करने के लिए गोवंश को पकड़कर रखने और भरण-पोषण के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा गोशाला व गो-आश्रय स्थलों की स्थापना कार्य जैसे प्रयास पूर्वकाल से निरंतर चल रहे हैं । इसके पश्चात गोवंश कि उचित सेवा न किये जाने के समय-समय गोवंश की असामयिक मृत्यु के समाचार प्राप्त होने के कारण उत्तर प्रदेश सरकार की इस महत्त्वपूर्ण प्रथम कार्यवाही विभिन्न रूपों में अभूतपूर्व व्यापक परिणाम दृष्टिगोचर होने अवश्यमभावी हैं।

UP Gauvansh Palan Yojana गोवंश पालन – व्यापक उद्देश्यपरक प्रयोजन:

उत्तर प्रदेश की सरकार की ओर से प्रत्येक गोवंश पालन हेतु प्रत्येक कृषक को प्रोत्साहन धनराशि के रूप में ₹ 900.00 दिए जावेंगे । ऐसे सभी कृषक जितने भी गोवंश का पालन करेंगे, प्रत्येक गोवंश के सेवा संरक्षण व संवर्द्धन हेतु समान धनराशि उन्हें प्रदान की जावेगी ।

गोवंश पालन से मात्र संवर्धन व संरक्षण ही नहीं होगा । गोवंश पालन से निकट भविष्य में वृहत अर्थव्यवस्था तथा आपण के नवीन द्वार खुलेंगे । इससे नियोजन के नवसृजन होंगे।

गोवंश पालन – अपेक्षित व्यापक परिणाम:

उत्तर प्रदेश की सरकार की गोवंश पालन हेतु की गयी प्रथम कार्यवाही के समयानुकूल अविरल परिणाम प्राप्त होंगे । कुछेक केंद्रबिंदु निम्नोल्लेखित हैं:

01) गोवंश पालन का सबसे महत्त्वपूर्ण उत्साहवर्धक परिणाम यह होंगे कि प्रथम गोवंश संरक्षण व द्वितीय गोवंश संवर्धन ।
02) गोवंश पालन का सतत लाभ प्रयोज्य, भोज्य, उपभोज्य मदों का उत्पादन करते हुए गोवंश पालन करने वाले कृषक भोज्य, उपभोज्य, प्रयोज्य वस्तुओं का विपणि में हाट भी स्थापित करते हुए इनका विक्रय कर सकेंगे जिससे उन्हें अतिरिक्त आय भी प्राप्त होगी ।

सरकारी योजनाओ की जानकारी के लिए सब्सक्राइब करे।

गोवंश पालन से प्राप्य विभिन्न उत्पाद में कुछ नाम हैं, अर्थात् उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सरकार आशा करती है कि निराश्रित गोवंश का पालन करने वाले कृषि गाय के कीड़े लगे हुए (वर्मी) गोबर से खाद (कम्पोस्ट) व उपले बनाकर उनका विपणि में विक्रय कर सकेंगे । गो आश्रय-स्थलों में ऐसे भी गोवंश हैं जो दुग्ध देते हैं। ऐसे दुधारू पशुओं से दुग्ध प्राप्त करने के दही, घी प्राप्त किया जा सकता है। गोमूत्र से गोनायल की निर्माण किया जा सकता है।

Website of the Department- www.animalhusb.upsdc.gov.in/

DOWNLOAD Yojana Details & Application Form

राज्‍य सरकार की योजनाएं -  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *